highlights
14872 Audio Programmes | 34 Program Languages | 44 Program Themes | 156 CR Stations | 56 CR Initiatives | and growing...

भूकंप से होने वाले नुकसान को कम करना (Hindi)   
NA

भूकंप से होने वाले नुकसान को कम करना

इस कार्यक्रम में भूकंप क्या है और भूकंप से होने वाले नुकसान को हम कम कैसे कर सकते हैं इस विषय पर रेडियो मैगजीन कार्यक्रम के माध्यम से जानकारी दी गई

जंगलों की आग को कम करना (Hindi)   
Creative Commons Attribution-NonCommercial

जंगलों की आग को कम करना

मंदाकिनी की आवाज के माध्यम से जंगलों में आग लगने के कारण, और उससे होने वाले नुकसान को कम करने के विषय में रेडियो मैगजीन के द्वारा जानकारी दी गई है,

Sukhe Se Prabhavit Pashupalan (Hindi)   
Creative Commons Attribution-NonCommercial

Sookha Prabhavit Kshetra Me Pasupalan

सूखे की मार झेल रहें क्षेत्रों में केवल जन जीवन हीं नहीं पशुपालन भी काफी प्रभावित हुआ है जल का अभाव पशुओं की हानि का प्रमुख कारण है एवं चारा की कमी के कारण वहाॅ पर पशुओं को आहर मिलने में काफी परेशानी आती है। ऐसी स्थिति गाॅव के लोग जन सामान्य पशुपालन छोड़ शहरों की मुड़ जाते है

 

Sukhe Ke Karan Palayan (Hindi)   
Creative Commons Attribution-NonCommercial

Sookha Prabhavit Kshetra Se Palayan

सूखा प्रभावित क्षेत्र में कृषि एवं रोजगार की कमी आ जाने के कारण वहाॅ के निवासी एक गाॅव से दूसरे शहर की ओर पलायन करने को मजबूर है जिसके चलते लोग अपने परिवार के पालन पोषण के लिये आर्थिक स्थिति मजबूत करने के लिये बाहर चले जाते है जिसका उनके जीवन यापन पर विपरीत प्रभाव पड़ता है

 

Barsha Jal Ka Abhav (Hindi)   
Creative Commons Attribution-NonCommercial

Sukha Prabhavit Kshetra Me Barsa Ka Abhav

जल सभी के जीवन का आधार है लेकिन निरंतर वर्षा के ना होने से उन क्षेत्रों में स्थिति गंभीर हो रहीं है। यहाॅ तक लोग तराई वालें क्षेत्रों के लिये पलायन होने के लिये मजबूर हो रहें है। जहाॅ हमारा देश विकासशील देशों में अपना स्थान बनायें हुये वहीं सूखे जैसे गहरी समस्याओं से जूझ रहा है। वर्षा के अभाव से उत्पन्न होने वाली स्थिति जो जन पेड़ पौधे जीव जंतु फसलों एवं अत्याधिक समस्या को पैदा होती है।

 

Sukhe Ki Samasaya (Hindi)   
Creative Commons Attribution-NonCommercial-ShareAlike

प्रकृति स्वयं ही प्रकृति ह्रास की पूर्ति कर देती है पर जब ह्रास अत्याधिक मात्रा में हाने लगे तो उसकी पूर्ति करना थोड़ा मुश्किल हो जाता है। हम इंसानों का यह फर्ज बनता है कि जिस प्रकृति का हम अपने स्वार्थ के लिये दोहन करतें है उस प्रकृति की हम मदद करें। और कोशिश करें कि तेजी से पनपती इस सूखे की समस्या को विकराल रूप धारण करने से पहले ही रोक लें।

Community Radio for Risk Reduction

Capacity Building and Networking Workshop for Community Radio (CR) Stations to Advance Disaster Risk Reduction (DRR) and Environmental Sustainability
Venue: New Delhi
Date: 30th August 2019
Description: The workshop sought to strengthen capacity of Community Radio (CR) stations and create networking opportunities for key stakeholders to advance Disaster Risk Reduction (DRR) and environmental sustainability in the country. The workshop was attended by more than 50 CR Stations from all over the country and focused on the role of CR Stations at various stages of DRR (before, after and during disasters). While domain experts tried to build a clear understanding of various aspects of DRR, representatives of CR Stations shared their experiences and challenges in the context of disasters and how they have been innovating on the go to reduce disaster related risks. At the end of the workshop, based on mutual exchange of information and knowledge on enhancing the role of CR in DRR and environmental sustainability, some CR Stations set out to produce sample radio programmes in various languages for broadcasting and also sharing for learning in the CR sector. The workshop was organised by UNICEF and OneWorld Foundation India in New Delhi on 30th August 2019 at the end of the 7th National Community Radio Sammelan - 2019.

Disaster Risk Reduction (DRR) and Environmental Sustainability

  • Chanderi Ki Awaaz, Madhya Pradesh
  • Mandakini Ki Awaaz, Uttarakhand
  • Radio Brahmaputra, Assam
  • Radio Kissan, Odisha


Phone:
Email: rajiv.tikoo@oneworld.net.in